खाँसी की दवाएँ Cough Medicines

खाँसी की दवाएँ Cough Medicines

खाँसी की दवाएँ को आमतौर पर खाँसी का उपचार करने के लिए खरीदा जाता है, जो तब उत्पन्न होता है जब आपके ऊपरी श्वसन पथ में संक्रमण (यूआरटीआई) होता है। खाँसी की दवाओं को अक्सर सूखी खाँसी और छाती की खाँसी में वर्गीकृत किया जाता हैं। ऐसा माना जाता है कि खाँसी की दवाएँ वास्तव में काम नहीं करती हैं। हालाँकि, कुछ लोगों का मानना है कि वे दवाएँ उनके लिए कार्य करती हैं और उन्हें काफी सुरक्षित दवा माना जाता है। 6 वर्ष और उससे कम उम्र के बच्चों को केवल ग्लिसरीन, शहद और नींबू के समान जैसे सरल खाँसी मिश्रण दिया जाना चाहिए।

खाँसी की दवाएँ

Cough Medicines

  • खाँसी क्या है?
  • ऊपरी श्वसन पथ में संक्रमण (यूआरटीआई) क्या है?
  • खाँसी की दवाएँ क्या हैं?
  • खाँसी की दवाएँ कैसे कार्य करती हैं?
  • क्या खाँसी की दवाएँ वास्तव में असर करती हैं?
  • मुझे कौन-सी खाँसी की दवाएँ खरीदनी चाहिए?
  • कुछ महत्वपूर्ण ध्यान देने योग्य तथ्य
  • इसके संभावित दुष्प्रभाव क्या - क्या हैं?
  • उपचार की सामान्य अवधि कितनी है?
  • किन्हें खाँसी की दवाएँ नहीं लेनी चाहिए?
  • येलो कार्ड योजना का उपयोग कैसे करें (केवल यूनाइटेड किंगडम (United Kingdom) के लिए)

खाँसी क्या है?

फेफड़ों के वायुमार्ग की जलन के विरूद्ध खाँसी एक स्वत: (प्रतिक्षेपक) प्रतिक्रिया है। आपके फेफड़ों में वायुमार्ग कई कारणों - उदाहरण के लिए, बहुत अधिक स्राव, संक्रमण, जलन उत्पन्न करने वाली गैसों, और एलर्जी, या बहुत अधिक धूल, या धुआं से उत्तेजित हो सकता है।

Having a cough is the main symptom of an upper respiratory tract infection (URTI) (खाँसी होना ऊपरी श्वसन नलिका में संक्रमण (यूआरटीआई) का मुख्य लक्षण है । हालाँकि खांखाँसी सी अन्य स्थितियों जैसे कि अस्थमा या अन्य फेफड़ों के रोगों का लक्षण भी हो सकता है।

यह पुस्तिका coughs caused by an URTI (यूआरटीआई के कारण खाँसी) का उपचार करने के लिए इस्तेमाल की जाने वाली खाँसी की दवाओं पर चर्चा करती है। यह मानती है कि आपको विश्वास है कि आपकी खाँसी अधिक गंभीर नहीं है या आपकी खाँसी के लिए कोई अन्य कारण नहीं है। यदि आप अनिश्चिय की स्थिति में हैं तो अपने डॉक्टर से परामर्श करें।

जब आपको एक यूआरटीआई की वजह से खाँसी होती है, तो इसे आमतौर पर छाती की खाँसी या सूखी खाँसी माना जाता है। यदि आप छाती की खाँसी से परेशान है तो इसका मतलब साफ है कि आपका फेफड़ा सामान्य से अधिक कफ (श्लेष्म) का उत्पादन कर रहा हैं, क्योंकि आप संक्रमण से पीड़ित है और आप इस अतिरिक्त बलगम (श्लेष्म) को खाँसी के माध्यम से निकालना चाह रहे हैं। यदि आपके पास सूखी खाँसी है तो इसका मतलब है कि आप बहुत खाँस रहे हैं, लेकिन जब आप खाँस रहे हैं तो उसमें कोई अतिरिक्त बलगम (श्लेष्म) नहीं होता है।

ऊपरी श्वसन पथ में संक्रमण (यूआरटीआई) क्या है?

गला (कंठनाली), या मुख्य वायुमार्ग (श्वासनली), या फेफड़े (ब्रांकाई) में जाने वाली वायुमार्गों में संक्रमण सामान्य हैं। इन संक्रमणों को कभी-कभी लिएंजिटिस, ट्रेकिटाइटिस या ब्रोंकाइटिस कहा जाता है। डॉक्टर अक्सर इन संक्रमणों में से किसी भी या सभी को शामिल करने के लिए केवल 'ऊपरी श्वासनु-मार्ग में संक्रमण' (यूआरटीआई) नामक शब्द का इस्तेमाल करते हैं। अधिकांश यूआरटीआई वायरल संक्रमण के कारण हैं। अगर संक्रमण नाक को भी प्रभावित करता है तो सर्दी का लक्षण उत्पन्न हो सकता हैं।

आमतौर पर लक्षण 2-3 दिनों के बाद अपने चरम पर होता हैं, और फिर धीरे-धीरे समाप्त हो जाता हैं। हालाँकि, संक्रमण होने के बाद खाँसी होना जारी रह सकता है। इसका कारण यह है कि संक्रमण से वायुमार्ग में हुए सूजन को ठीक होने में कुछ समय लग सकता है। अन्य लक्षणों के समाप्त होने के बाद, खाँसी को ठीक होने पूर्ण रूप से ठीक होने में 2-3 सप्ताह का समय लग सकता हैं।

खाँसी की दवाएँ क्या हैं?

खाँसी की दवाएं वास्तव में दवाओं का एक समूह है। इनका उद्देश्य या तो सूखी खाँसी को दबाना या आपको ऊपरी श्वास नलिका संक्रमण (यूआरटीआई) के दौरान एक छाती की खाँसी के अतिरिक्त कफ (श्लेष्म) को खाँसी के माध्यम से बाहर निकालने में मदद करना है। खाँसी की दवाएँ जो सूखी खाँसी को दबाने में सहायता करती हैं, उन्हें कभी-कभी एंटीटूसविसेज कहा जाता है। खाँसी की दवाएँ जो आपको अतिरिक्त बलगम को खाँसने में मदद करती हैं, उन्हें कभी-कभी उन्हें एक्स्पेक्टोरंट्स कहते हैं।

बहुत सी खाँसी की दवाएँ फार्मेसियों या सुपरमार्केट में खरीदने के लिए उपलब्ध हैं। उनमें आमतौर पर निम्नलिखित में से एक या अधिक शामिल होता हैं:

  • एक एंटीटूसविसेज (खाँसी सप्रेसेंट) - उदाहरण के लिए, डिक्स्रोमाथार्फ़न, या फोल्कोडाइन।
  • एक एक्स्पेक्टोरंट- उदाहरण के लिए, ग्वाइफेनेसन, या आईपेकैकुन्हा।
  • एक एंटीहिस्टामाइन - ब्रॉम्फेनीरामाइन, क्लोरफेनैमाइन, डिफेनहाइडरामाइन, डॉक्सिलामाइन, प्रोमैटाइलिन, या त्रिप्रिल्डिन
  • एक डेंगैंस्टेन्ट - उदाहरण के लिए, फेनिलफ्रिन, स्यूडोफेड्रिन, एफ़ेड्रिन, ऑक्सीमेटाज़ोलिन, या ज़ाइलमेटामाज़ोलिन।

एक ग्लिसरीन, शहद और नींबू युक्त खाँसी की दवा भी उपलब्ध है। इस दवा में एक सक्रिय संघटक नहीं है। यह एक सुखद कार्य करने वाला माना जाता है।

खाँसी की दवाओं में पेरासिटामोल या इबुप्रोफेन जैसे अन्य दवाएँ भी शामिल हो सकती हैं। कुछ में अल्कोहल भी होता हैं।

खाँसी की दवाएँ कैसे कार्य करती हैं?

यदि खाँसी की दवाएँ असर दिखाती हैं, तो सक्रिय संघटक के आधार पर उन्हें अलग-अलग तरीकों से असर दिखाने वाला माना जाता है:

  • एंटीटूसविसेज दवाएँ खाँसी की इच्छा को कम करते हुए प्रभाव दिखाती हैं। .
  • एक्स्पेक्टोरंटस के बारे में कहा जाता है कि यह फेफड़ों द्वारा कफ (श्लेष्म) की मात्रा में वृद्धि करते हुए कार्य करता है। यह खाँसी करते हुए स्राव को आसानी से बाहर निकालने के कार्य को आसान बनाती है।
  • एंटीहिस्टामाइन हिस्टामाइन के मुक्त होने के दर को कम करता हैं। इससे जमाव को कम कर है और फेफड़ों द्वारा निर्मित स्राव की मात्रा को कम करता है।
  • डिकोंजेस्टेंट्स फेफड़े और नाक में रक्त वाहिकाओं को संकरा (संकुचित) होने में मदद करता हैं, और इससे जमाव कम हो जाता है।

क्या खाँसी की दवाएँ वास्तव में असर करती हैं?

Tशोध अध्ययनों से ऐसा कोई बेहतर प्रमाण प्राप्त नहीं हुआ है कि खाँसी की दवाएँ कार्य करती है। ऐसा माना जाता है कि खाँसी (या सर्दी) के लक्षणों पर उनका बहुत कम प्रभाव होता है। हालाँकि, कुछ लोगों का मानना है कि खाँसी की दवाएँ उनके लिए प्रभावकारी होती हैं और इन दवाओं को अधिकांश वयस्कों और 6 वर्ष से अधिक उम्र के बच्चों के लिए सुरक्षित माना जाता है।

मुझे कौन-सी खाँसी की दवाएँ खरीदनी चाहिए?

यदि आप सूखी खाँसी से पीड़ित है, तो एक ऐसी दवा जिसमें डिस्ट्रोमेथोर्फ़न या फोलकोडाइन जैसे एंटीस्सिव शामिल होता है, उसका उपयोग करना सबसे उपयुक्त हो सकता है। यदि आप छाती की खाँसी से पीड़ित है, तो एक ऐसी दवा जिसमें गॉइफेनिसिन या आईपेक्यून्हा जैसे घटक शामिल हो, उसे लेना सबसे उपयुक्त हो सकता हैं। आपका फार्मासिस्ट आपको सलाह दे सकता है कि कौन-सी दवा आपके लिए उपयुक्त हो सकती है। यदि आप सुपरमार्केट से ये दवाएं खरीद रहे हैं, तो उनके बक्से पर चिपके लेबल पर इस तथ्य का में स्पष्ट रूप से उल्लेख किया जाता है कि वे किस प्रकार की खाँसी के लिए उपयोगी हैं।

कुछ महत्वपूर्ण ध्यान देने योग्य तथ्य

खाँसी की दवाओं के बारे में कुछ महत्वपूर्ण ध्यान देने योग्य तथ्य इस प्रकार हैं:

  • जब वे 6 वर्ष से कम आयु के बच्चों के लिए उपयुक्त हैं।
  • जब अन्य दवाओं को लिया जा रहा है।

6 वर्ष से कम आयु के बच्चों के लिए

6 वर्ष से कम आयु के बच्चों के लिए, उन्हें केवल ग्लिसरीन, शहद और नींबू जैसे सरल दवाएँ दें। ऊपर सूचीबद्ध किसी भी सक्रिय संघटक को (एंटीटूसविसेज, एक्स्पेक्टोरंटस, एंटीथिस्टामाइन या डिकॉजिस्टेंट) वाले किसी भी खाँसी की दवा को 6 वर्ष से कम आयु वाले बच्चों को नहीं दें। इसका कारण यह है कि युवा बच्चों को इन दवाओं से संभावित लाभ के बजाए जोखिम अधिक होता है।

अन्य दवाएँ लेने से पहले

केमिस्ट या सुपरमार्केट से कोई भी दवा खरीदने से पहले हमेशा अपने फार्मासिस्ट से संपर्क करें ताकि आप यह जान सकें कि क्या वह खाँसी की दवा उन दवाओं के साथ लेना सुरक्षित हैं, जिसे आप ले रहे हैं।

खाँसी के कुछ दवाओं में अन्य दवाएं शामिल हो सकती हैं उदाहरण के लिए, कुछ में पेरासिटामोल या इबुप्रोफेन हो सकता हैं, और कुछ में अल्कोहल शामिल हो सकता है। इसके बारे में जानना महत्वपूर्ण है यदि आप पहले से ही अपने संक्रमण के उपचार (उदाहरण के लिए, बुखार लगने पर) के लिए पेरासिटामोल या आईबुप्रोफेन ले रहे हैं। ऐसा जानना इसलिए भी आवश्यक है कि आप बहुत अधिक मात्रा में पेरासिटामोल या आईबुप्रोफेन (ओवरडोज) ले सकते हैं लेकिन इसके बारे में नहीं जानते है। बहुत अधिक पेरासिटामोल लेने से आपक यकृत क्षतिग्रस्त हो सकता है।

यदि आप एक विशेष प्रकार का एंटीडिप्रेसेंट ले रहे हैं – एक-मॉनोमाइन-ऑक्सीडेज इनहिबिटर (एमओओआई) – तो यह खाँसी दवाओं में शामिल कुछ विशेष संघटकों सामग्री के साथ प्रतिक्रिया कर सकता है। इन्हें एक साथ लेने से रक्तचाप (उच्च रक्तचाप का संकट) में अचानक बहुत वृद्धि हो सकती है, या आप बहुत उत्साहित या उदासीन महसूस कर सकते हैं। विशेष रूप से, एमओओआई एंटीडिप्रेसेंट लेने वाले लोगों को और इसे लेना बंद करने के दो सप्ताह बाद तक डीएक्सट्रोमेथोरफ़न, एफ़ेड्राइन, सीडोएफेडेरेन या फेनिलप्रोपोनोलैमिन लेने से बचना चाहिए:

  • डीएक्सस्ट्रोथोथेरफाइन को जब एमओओआई एंटीडिप्रेसेंट के साथ लिया जाता है तो आप बहुत उत्साहित या निराश हो महसूस कर सकते है।
  • एफ़ेड्राइन, सीडोएफेडेडिन और फिनिलप्रोपोनोलैमाइन को जब एक ही समय में एमओओआई एंटीडिप्रेसेंट के रूप में लिया जाता है, तो रक्तचाप में बहुत वृद्धि हो सकती है।

इसके संभावित दुष्प्रभाव क्या - क्या हैं?

अधिकांश लोग जो खाँसी की दवाएँ लेते हैं, उन्हें दुष्प्रभावओं का अनुभव नहीं होता हैं। कुछ खाँसी की दवाएँ (उदाहरण के लिए, फोलकोडाइन और डिफेनहाइडरामाइन) उनींदे का कारण बन सकती है। यदि खाँसी की दवा लेने के बाद आपको नींद आने लगता हैं, तो आपको वाहन चलाने या काम करने से बचना चाहिए। आपकी दवा के साथ उपलब्ध कराई जाने पत्रक बताती है कि दवा उनींदापन का कारण बन सकती है या नहीं।

फोल्कोडाइन कब्ज उत्पन्न कर सकता है।

टिप्पणी: उपरोक्त वर्णित साइडइफेक्ट्स इन दवाओं के दुष्प्रभावों की संपूर्ण सूची नहीं है संभावित साइड इफेक्ट्स और सावधानियों की संपूर्ण सूची के लिए कृपया अपने विशेष ब्रांड के साथ आने वाले पत्रक को देखें।

उपचार की सामान्य अवधि कितनी है?

जैसा कि सभी दवाओं के साथ है, खाँसी की दवाओं को सबसे कम अवधि तक ही लिया जाना चाहिए, और अधिकांश लोगों को केवल कुछ दिनों तक खाँसी की दवा का उपयोग करने की आवश्यकता होती है। सामान्य तौर पर, अधिकांश खाँसी 2-3 सप्ताह से अधिक समय तक नहीं रहता हैं। अगर आपकी खाँसी इससे अधिक समय तक बनी रहती है तो आपको अपने डॉक्टर से परामर्श करना चाहिए।

किन्हें खाँसी की दवाएँ नहीं लेनी चाहिए?

अधिकांश लोग खाँसी की दवा ले सकते हैं। अपवाद के रूप में 6 वर्ष से कम आयु के बच्चों को खाँसी की दवा नहीं दी जानी चाहिए। इन बच्चों को केवल बिना किसी सक्रिय संघटक वाली खाँसी की दवाएं दी जानी चाहिए - उदाहरण के लिए, ग्लिसरीन, शहद और नींबू। यदि आप कोई भी अन्य दवा ले रहे हैं या आपको यकीन नहीं है कि आपको खांसी की दवा लेनी चाहिए या नहीं तो अपने फार्मासिस्ट से परामर्श करें।

येलो कार्ड योजना का उपयोग कैसे करें (केवल यूनाइटेड किंगडम (United Kingdom) के लिए)

यदि आपको लगता है कि आपको दवा में से एक का दुष्प्रभाव हुआ है, तो आप येलो कार्ड स्कीम पर इसकी रिपोर्ट कर सकते हैं। आप निम्नलिखित वेब एड्रेस पर यह कार्य ऑनलाइन कर सकते हैं: www.mhra.gov.uk/yellowcard।

येलो कार्ड स्कीम का उपयोग फार्मासिस्ट, डॉक्टरों और नर्सों को किसी नए दुष्परिणाम के बारे में सूचित करने के लिए किया जाता है, जो आपकी दवाओं या किसी अन्य स्वास्थ्य सेवा के कारण उत्पन्न हो सकता हैं। यदि आप किसी दुष्प्रभाव के बारे में रिपोर्ट करना चाहते हैं, तो आपको निम्नलिखित के बारे में आधारभूत सूचनाएँ प्रदान करना होगा:

  • दुष्प्रभाव।
  • उस दवा का नाम, जिसके कारण दुष्प्रभाव हुआ है।
  • उस व्यक्ति का नाम, जिसे दुष्प्रभाव का सामना करना पड़ा है।
  • दुष्प्रभाव के रिपोर्टर के रूप में आपका संपर्क विवरण।

रिपोर्ट करने के दौरान यदि आपके पास अपनी दवा और / या पत्रक है, तो यह उपयोगी हो सकता है।

अस्वीकरण: यह चिकित्सकों द्वारा समीक्षा किये गए मूल अंग्रेजी लेख का अनुवाद है। हमने सभी लोगों कि जानकारी के लिए जितना संभव हो उतना हमारे लेखों का अनुवाद किया है। तथापि, अनुवाद में कुछ गलतियाँ हो सकती हैं। इस कारण से हम सटीकता, विश्वसनीयता या समय अनिश्चितता की गारंटी नहीं दे सकते। यदि मूल अंग्रेजी लेख और अनुवाद के बीच कोई विरोधाभास है, तो मूल अंग्रेज़ी संस्करण हमेशा प्रबल माना जाएगा । इस आलेख को अंग्रेजी में पढ़ेढ़े

Did you find this information useful? yes no

Thank you, we just sent a survey email to confirm your preferences.

Further reading and references

  • Over-the-counter cough and cold medicines for children; Medicines and Healthcare products Regulatory Agency (MHRA), 2009

  • Common cold; NICE CKS, November 2011 (UK access only)

  • British National Formulary; NICE Evidence Services (UK access only)

  • Smith SM, Schroeder K, Fahey T; Over-the-counter (OTC) medications for acute cough in children and adults in community settings. Cochrane Database Syst Rev. 2014 Nov 2411:CD001831. doi: 10.1002/14651858.CD001831.pub5.

सेप्टो-ऑप्टिक डिसप्लेसिया

सेबोरहॉइक मौसा